SUBODHA

Just another Jagranjunction Blogs weblog

241 Posts

2221 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 18093 postid : 814386

"कितने यादव सिंह?"

Posted On: 9 Dec, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हमारे लोकतंत्र में जहाँ एक ओर गाली पर वहस छिड़ी हुयी है,वही दूसरी ओर भ्रष्टाचारी उजागर हो रहे हैं| वैसे गाली तो राजनीती का अभिन्न मसाला है,राम वनवास के दौरान लक्ष्मण ने कैकेयी को अपशब्द कहे,राधेश्याम रामायण के अनुसार ,”कैकेइया से जाकर कह देना,वह घी के दिए जलाये अब “,लक्ष्मण ने गंगापार जाने से पूर्व सुमन्त्र से कहा | महाभारत तो गालियों से भरा पड़ा,दुर्योधन और शिशुपाल ने भगवान को भी गाली देने से नहीं बख्शा | वैसे बात कहने -कहने का भी तरीका होता है,अभी हाल में ही चुनाव प्रचार के दौरान एक नेता ने कहा,साझे की सरकार के सौदे बहुत महंगे होते हैं,शायद यह किसी गाली से भी अधिक तल्ख़ टिप्पणी है| हमारे यहां विवाह में तो गालियां गाने का रिवाज़ ही है | इसी गाली के एनालिसिस के चक्कर में हम यादव सिंह को भूल गए | वैसे आज के समय में चाहे यादव हो या सिंह या दुबे ,चरित्र हीनता सभी में आ रही है | बांदा के एक दलित महिला पर रेप का दोषी एक दुबे ही था ,जो कि एक राजनैतिक पार्टी से भी सम्बद्ध था |
एक व्यक्ति एकबार मुझसे बोला,आप किसी भी व्यक्ति पर हमेशा विश्वास नहीं कर सकते ,इंसान ऐसा खतरनाक जानवर है ,बहुत जल्दी बदल जाता है ,हर २ मिनट पर भी अपना अलग रूप धारण कर सकता है |
महिलाएं भी इन सब कार्यों को करने में दिनोदिन स्मार्ट बन रही हैं,चाहे चोरिनी गैंग का पुलिस को चकमा देकर चोरी करना या मिस यादव सिंह का तलाक पत्र लेकर साथ में जीवन यापन करना,चाहे साथ में रहकर एन्जॉय करना और अनबन होने पर रेप में फंसा देना आदि अनेक घटनाओ से हम नित्य रूबरू हो रहे हैं |
एक तरफ बहस का मुद्दा यह भी है,मोदी के काले धन के वादे का क्या हुआ,सभी गरीब को १५-१५ लाख मिलने वाले थे | मैं तो कहता हूँ काला धन बापस भी आ जाये तो गरीब को पैसे नहीं देने चाहिए,उसे सुशिक्षा और रोजगार की महती आवश्यकता है ,न कि १५ लाख रुपये की | और यदि इस देश का यादव सिंह बुद्धिमत्ता पूर्वक धनार्जन करके गरीब को निशुल्क शिक्षा और रोजगार के नए अवसर पैदा करके उन्हें काम पर लगाये ,तो इस देश के अन्य समस्याएं स्वतः हल हो सकती हैं,पर यादव सिंह अपनी उल्टी बुद्धि चलाकर अपना बेड़ा और देश का भविष्य दोनों ही गर्क कर रहे हैं |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
December 9, 2014

अच्छा व्यंग्य कसा है दुबे जी आपने । मैं आपके विचारों से सहमत हूँ ।

Imam Hussain Quadri के द्वारा
December 9, 2014

ये बातें कुछ लोगों को पसंद नहीं आएगी क्यूंकि ये सत्य है और सत्य तीखा होता है और वो गले से जल्दी नहीं उतरता वैसे हार्दिक बधाई सत्य कहने के लिए आभार

pkdubey के द्वारा
December 10, 2014

sadar sadhuvaad aadarneey.

pkdubey के द्वारा
December 10, 2014

sadar sadhuvaad aadarneey.mujhe lagtaa hai,kadve aur teekhe shabdo se yadi hamaraa jameer jaag jaye to bhut achchha hai,atah main nischint hokar seedhaa-seedha likhtaa hoon aadarneey.

drashok के द्वारा
December 10, 2014

श्री दूबे जी आप गिन नही पायेंगे कितने यादव सिंह हैं बहुत अच्छा लेख डॉ अशोक

शिवेंद्र मोहन सिंह के द्वारा
December 10, 2014

बहुत बढ़िया लेख प्रवीण जी.

pkdubey के द्वारा
December 11, 2014

aap ne bilkul sach kahaa aadarneey.sadar sadhuvaad.

pkdubey के द्वारा
December 11, 2014

sadar sadhuvaad aadarneey sir.

deepak pande के द्वारा
December 12, 2014

Umda lekhan dubey deepakbijnory.jagranjunction.com/2014/12/12/%E0%A4%A8%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A4%B2%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%B2%E0%A5%9C%E0%A4%A4%E0%A5%87-%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A5%9B/

pkdubey के द्वारा
December 12, 2014

SADAR SADHUVAAD AADARNEEY.GAMBHEER PRASHAN YAH HAI,DESH KEE SANSAD YADAV SINGH PAR CHARCHAA KYUN NAHEE KARTEE,USSE SAMBANDHIT SAB NETAON KEE BHEE KUDKEE HONEE CHAHIYE,SARE MAHAL GAREEB BACHCHON KE RHNE AUR PADHNE KAA STHAN BANNAA CHAHIYE.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran