SUBODHA

Just another Jagranjunction Blogs weblog

241 Posts

2221 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 18093 postid : 804938

"तुम, मेरे "बाल गुरु" हो"

Posted On: 18 Nov, 2014 Others,Special Days में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

तुमको पाकर अभिभूत हुआ मैं,
तुमको देखा तो प्रशांत हुआ मैं ,
प्रियवर,तेरी किलकारी से,
नित नव मंगल पूर्ण हुआ मैं .
जीवन के इस बेला में ,तुम एक उद्द्देश्य बनकर आये|
मैं क्या पालूँगा तुमको ,तुम मेरा दुःख हरने आये ||
सदा रहा मैं एकाकी,तुम नव साथी बनकर आये |
मेरे बच्चे बनकर ,अपना अनुराग प्रगट करने आये ||
हे रूद्र अंश ,हे ब्रह्म रूप तुम मेरा हित करने आये |
हे उपमन्यु गोत्र के प्रिय वंशज,तुम मेरा तम हरने आये ||
पा……….पा…………..की ध्वनि मेरे कानों में हर पल गूंजे|
मानो कोयल प्रिय शब्दों से नित्य मधुर नवरस घोले ||
ग्रंथों से मैंने जाना था,वेद -प्यास का पुत्र प्रेम ,
ग्रंथों में मैंने पाया था ,दसरथ का वह सत्य प्रेम ,
पर तेरी रुदन भरे स्वर में मैं जब पा..पा..सुनता हूँ ,
अपने मानस के मंदिर में एक नया ग्रन्थ पा लेता हूँ ||
चाह नहीं वैराग्य मिले,मुझको जंगल में जा कर |
चाह नहीं मैं तप लीन रहूँ,तुमको हर पल बिसराकर ||
मेरे मानस मंदिर में तुम हर पल स्थित रहना |
मेरी सांसों की माला पर,तुम राम -राम बनकर फिरना ||



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran