SUBODHA

Just another Jagranjunction Blogs weblog

241 Posts

2221 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 18093 postid : 771961

"INCOME TAX-कोऊ नृप होइ हमै तौ हानि||"

Posted On: 8 Aug, 2014 Others,social issues,Business में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इनकम टैक्स,ऐसा शब्द है जिससे सब डरते हैं | पढ़े -लिखे लोग इससे बचने का हर संभव प्रयास करते हैं | सरकार ने भी इससे बचने के लिए नए -नए कानून बना रखे हैं,सेक्शन ८० में A,B,C,D,CC,CD ETC-ETC के तहत पैसे लगाओ और टैक्स बचाओ | यदि टैक्स बचाने का तरीका सुझा रहे हो,तो कटता ही क्यों है| इन सब में चालाक और बेईमान इंसान ही सफल होता है | एक आम नागरिक जिसे अपने दैनिक कार्यों से ही फुर्सत नहीं इतने जँझट कैसे कर पायेगा | अब यदि मान लो,सरकार ने एक कायदा बनाया कि ५ लाख के ऊपर ही टैक्स डिटेल फिल करना है,तो प्राइवेट कंपनी अपने एम्प्लोयी को ५ लाख ४००० रूपए वेतन दे कर अपना फायदा करेगी और एक एम्प्लोयी के ऊपर टैक्स का जँझट थोप देगी,जो कि पूरे दिन उसी कंपनी के लिए कार्यरत है | ऐसे अनेक नायाब तरीके इस देश में अपनाये जा रहे हैं,जिससे कार्मिक केवल पिसता रहे और बिजनेसमैन ऊँचा उठता रहे | पर प्यारे ज्यादा ऊंचाई से गिरने वाला बहुत बुरा मरता है | यह संसार भोगनगर है,यहाँ पाई -पाई का हिसाब नियति में लिखा हुआ है,विक्रमादित्य को भी कोल्हू का बैल बना देती है, नियति |
सरकार भी एक साधारण सा कानून बनाये,उदाहरण के तौर पर ५ लाख पर मिनिमम ५०००/= टैक्स देना ही है हर नागरिक को,तो आम आदमी की जिंदगी में थोड़ी राहत आएगी और प्रत्येक वित्तीय वर्ष के प्रारम्भ और अंत में होने वाली कई जँझटों और फार्म भरने से उसे छुटकारा मिल जाएगा | अनेक देश टैक्स फ्री सैलरी दे रहे हैं,क्या उन देशो की तरक्की नहीं हो रही है |
पर इस देश में कुछ भी नया होने से पहले हंगामा करने वालों की बहुत भीड़ है,हंगामा करते रहो प्यारे |



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
August 8, 2014

सरकार भी एक साधारण सा कानून बनाये,उदाहरण के तौर पर ५ लाख पर मिनिमम ५०००/= टैक्स देना ही है हर नागरिक को,तो आम आदमी की जिंदगी में थोड़ी राहत आएगी और प्रत्येक वित्तीय वर्ष के प्रारम्भ और अंत में होने वाली कई जँझटों और फार्म भरने से उसे छुटकारा मिल जाएगा | आदरणीय दुबे जी बहुत अच्छा सुझाव है ! मेरे विचार से तो महंगाई को देखते हुए पांच लाख तक टैक्स छूट दे देनी चाहिए !

pkdubey के द्वारा
August 9, 2014

aadarneey,chhoot na bhee de ,par duniyadaree kaa janjhat khatm kar de,section 80 vagairah.ab ek employee kyaa-kyaa kare tax bachaye,ghar savanre,bachche ko padhaye,bhai-bahan kee shadee kare aadi-aadi,baad me sarkaar ko pai-pai ko hisab de,khud kitne kharch kar dete khud ko hee nahee pataa,vah to CAG hai jo sab pol-pattee kholtee rhtee samay -samay par.

nishamittal के द्वारा
August 11, 2014

सुन्दर सुझाव

pkdubey के द्वारा
August 11, 2014

sadar sadhuvaad aadarneeyaa.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran