SUBODHA

Just another Jagranjunction Blogs weblog

241 Posts

2221 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 18093 postid : 761095

"नारी सद्गुरु है"

Posted On: 4 Jul, 2014 Others,social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

नारी है क्या ,यह एक नारी भी नहीं समझ सकती,नारी उत्थान है तो पतन भी,नारी विकास है ,तो विनाश भी,नारी कोमल है तो कठोर भी.अनेकानेक उपन्यास ,लेख ,स्त्रोत नारी के ऊपर लिखे गए,रामायण और महाभारत की उद्गम है यह नारी.राम के वनवास का कारण है यह नारी.
कलियुग में बहुत प्रधान है नारी.प्रत्येक जीव का जीवन है नारी.यह सृष्टि की संरक्षक और पालक है.यह स्वर्ग और श्मशान दोनों साथ लेकर चलती है.इसकी कृपा और क्रोध,दोनों ही बोधकारी है.
एक अनाथ बालक,जो अपने शैशव काल से ही मातृ सत्ता से विलग हो गया हो,जिसने ,किसी गुरु के आश्रम में रहकर विद्याध्ययन किया हो.किशोरावस्था में जिसे जीवन संगिनी मिली हो.कितना प्रेम होगा उसके हृदय में एक नारी के लिए.गोचारण कर के जैसे ही घर में आया,अपनी पत्नी को न पाकर सीधा ससुराल की ओर चल पड़ा,भूखा प्यासा किसी तरह पहुंचा,तो पत्नी शर्म से नतमस्तक होकर बोली( आप समझ सकते हैं,जिस काल खंड की यह बात है ,उस समय यह सब कितना अचम्भा लगता होगा;जब लोग अपने माता -पिता,बड़ों के सामने पत्नी से बात भी नहीं करते थे).-
लाज न लागत आप को ,जो दौरे आये साथ.
धिक्- धिक् ऐसे प्रेम को, क्या कहूँ अब नाथ.
अस्थि चर्ममय देह मम ,तामे ऐसी प्रीति,
जो करते श्री राम में,न होती भव भीति.
मुझे तो लगता है -रत्नावली के ऊपर १०० शारदा एक साथ बैठ गयी होंगी.
आप विचार कीजिये -कहीं आजकल की लड़की होती तो क्या कहती -

wow!wonderful! u r so great.u love me so much. i love u too ,my loving darling.ohh! it was raining so heavily,but u came just behind me. now stay here in my home at least 15 days,then we will go back.forget about cows now.lets enjoy honeymoon.what u will like to have! whiskey,rum,beer or only simple tea.u r feeling cold  naa.

ऐसे ही एक महान भारतीय कवियत्री ने लिखा,अपने पति के लिए -(शायद तब आज़ादी का काल खंड था)
मेरे हँसते अधर नहीं ,जग की आंसू लड़ियाँ देखो,
मेरे गीले पलक छुओ मत,मुरझाई कलियाँ देखो.

अब ऐसे गीत कहाँ,कहाँ ऐसी जवानी, जो ललकार सके सोते यौवन को,जगा सके वैराग्य.

अतः नारी सद्गुरु ही है,केवल तीसरे नेत्र से निहारने की आवश्यकता है.
“जय हिन्द,जय भारत”.



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
July 5, 2014

रोचक और अच्छा लेख ! बहुत बहुत बधाई ! प्राचीन काल में नारियां वास्तव में सद्गुरु हुआ करती थीं ! आज भी कुछ नारियां इस तरह की हैं ! लिखना जारी रखिये ! शुभकामनाओं सहित !

Shobha के द्वारा
July 5, 2014

आपने नारी को बहूत ही सम्मानित ढंग से प्रस्तुत किया बहूत अच्छा लगा नैंसी रीगन ने नारी की आधुनिक परिवेश में व्याख्या करते हुये कहा था एक स्त्री टी बैग की तरह है जो गर्म पानी में डालने पर अपना रंग दिखाती है हमारे देश की स्त्री इसी प्रकार की है दुख में पति की सच्ची अर्धांगिनी सिद्ध होती है शोभा

pkdubey के द्वारा
July 5, 2014

sadar sadhuvaad aadarneey.

pkdubey के द्वारा
July 5, 2014

sadar sadhuvaad aadarneeyaaa.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran